विलाप ही सही

कल रात मुम्बई में

मारे गये तमाम लोगों को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

 
विलाप के अलावा हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं.

shok

taj-burns

15 Responses to “विलाप ही सही”

  1. seema gupta Says:

    विलाप के अलावा हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं.

    ” बहूत शर्मनाक और दर्दनाक हादसा है, और हम बेबस और लाचार …..सिर्फ़ अपनी श्रद्धांजलि अर्पित कर सकतें हैं ….”

  2. ghughutibasuti Says:

    हम विलाप के अलावा आतंक के रंग का कयास भी लगा सकते हैं । आश्चर्य कि अभी तक टी वी में रंग नहीं बताया जा रहा । शायद रंग जानने से मरने वालों की आत्मा को कुछ सांत्वना मिले ।
    घुघूती बासूती

  3. arun Says:

    सरकार सेना और संतो को आतंकवादी सिद्ध करने जैसे निहायत जरूरी काम मे अपनी सारी एजेंसियो के साथ सारी ताकत से जुटी थी ऐसे मे इस इस प्रकार के छोटे मोटे हादसे तो हो ही जाते है . बस गलती से किरेकिरे साहब वहा भी दो चार हिंदू आतंकवादी पकडने के जोश मे चले गये , और सच मे नरक गामी हो गये , सरकार को सबसे बडा धक्का तो यही है कि अब उनकी जगह कौन लेगा बाकी पकडे गये लोगो के जूस और खाने के प्रबंध को देखने सच्चर साहेब और बहुत सारे एन जी ओ तीस्ता सीतलवाड की अगुआई मे पहुच जायेगी , उनको अदालती लडाई के लिये अर्जुन सिंह सहायता कर देगे लालू जी रामविलास जी अगर कोई मर गया ( आतंकवादी) तो सीबीआई जांच करालेगे पर जो निर्दोष नागरिक अपने परिवार को मझधार मे छोड कर विदा हो गया उसके लिये कौन खडा होगा ?

  4. arsh Says:

    bas stabdh hun…. naman mera sabko…..

  5. ताऊ रामपुरिया Says:

    बहुत अफसोसनाक और दुखद ! अरुण जी की बात से सहमत !

  6. ummed singh baid Says:

    रोना है तो जाईये, उस ईश्वर के पास.
    वही बचाये देश को, कहिये बात ये खास.
    कहिये बात ये खास, जगत का मंगल कारी.
    घर का दुश्मन ना पहचाने, क्या लाचारी!
    कह साधक हिन्दु निज कर हथियार उठाईये.
    या ईश्वर के पास, रोना है तो जाईये.

  7. a common man Says:

    pichhle chitthe par tippanni karna chahta tha, lekin shok santapt hone ke kaaran kuchh likha nahi ja raha hai

  8. rachna Says:

    yae samay kewal saath dena kaa haen

  9. Sanjeev Kumar Sinha Says:

    कांग्रेस को सबक सिखाओ- देश बचाओ।

  10. Ratan singh Says:

    बहूत शर्मनाक, अफसोसनाक और दुखद !विलाप के अलावा बचा ही क्या है इस देश में |

  11. Shastri JC Philip Says:

    बम्बई में जो हुआ है वह हर आदमी को दुख से भर देने के लिये काफी है.

    जब तक आतंकवादियों के ठिकाने (जहा उनको प्रशिक्षण दिया जाता है) ध्वंस नहीं किये जाते तब तक यह तांडव चलता रहेगा.

    बेहद दुख के साथ — शास्त्री

  12. संगीता-जीवन सफ़र Says:

    हम सभी स्तब्ध और दुखी हैं|विनम्र श्रध्दांजली उन शहीदों को जिन्होंने देश के लिये अपना बलिदान दिया!आभार उन जाबांज सिपाहियों का जिन्होनें लोगों की जान बचायी!

  13. राज भाटिया Says:

    मै कल शाम से ही टिपण्णी देने की कोशिश कर रहा हूं, लेकिन अहेशा एर्रोर आ जाता है.
    बहुत ही दुख की बात है बाकी मै अरुन जी की टिपण्णी से सहमत हूं.

  14. a common man Says:

    ishwar netaon ko sadbuddhi de aur janta ko tameej

  15. Dr.Arvind Mishra Says:

    I am still dumbfounded and trying to come out of the shock ! please visit my blog to vote foe a national consensus !

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: